Saturday, 7 March 2020

Hand Sanitizer क्या है? कैसे इस्तेमाल करें

इन दिनों हाथों को धोने के लिए साबुन की जगह हैंड सैनिटाइजर का उपयोग अधिक किया जा रहा है। हैंड सैनिटाइजर कीटाणुओं और बैक्टीरिया को हमारे हाथों से निकाल देता है, साथ ही इसके इस्तेमाल के बाद हाथों से भीनी सी महक भी आती है, लेकिन कुछ लोगों को बार-बार हाथ धोने की आदत सी होती है। ऐसे लोगों को हर छोटे-बड़े काम में हाथ डालने के बाद लगता है कि उनके हाथ सिर्फ पानी से साफ नहीं हो पाएंगे, इसलिए वे बार-बार हाथ साफ करने के लिए हैंड सैनिटाइजर का प्रयोग करते हैं।

Hand Sanitizer In Hindi

आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि Hand Sanitizer क्या है?, कितने प्रकार का होता है? इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है, साथ ही यह हमारे स्वास्थ्य पर कितना प्रभावशाली है।


Content
  • Hand Sanitizer क्या है?
  • Hand Sanitizer के उपयोग
  • Hand Sanitizer के प्रकार
  • Hand Sanitizer का इस्तेमाल कैसे करें?
  • Hand Sanitizer का स्वास्थ्य पर प्रभाव

Hand Sanitizer क्या है?

Hand Sanitizer

Hand Sanitizer एक ऐसा लिक्विड है, जो आमतौर पर हाथों पर संक्रामक एजेंटों को खत्म करने के लिए उपयोग किया जाता है। स्वास्थ्य सेवा की अधिकांश स्थितियों में अल्कोहल-आधारित योगों (Formulation) को साबुन और पानी से धोना बेहतर होता है। यह आम तौर पर सूक्ष्मजीवों को मारने में अधिक उपयोगी है और साबुन और पानी से बेहतर माना जाता है। हाथ धोने के लिए इसे शौचालय के बाहर भी उपयोग किया जाता है।

Hand Sanitizer के उपयोग

General Public

यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) द्वारा क्लीन हैंड्स अभियान, जनता को हाथ धोने के निर्देश देता है। अल्कोहल-आधारित हैंड सेनिटाइज़र का इस्तेमाल केवल उस स्थिति में किया जाता है जब साबुन और पानी उपलब्ध न हो।

Health Care

हेल्थकेयर सेटिंग में ज्यादातर स्थितियों में साबुन और पानी से हाथ धोने की तुलना में अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइज़र अधिक सुविधाजनक होता है। यह आम तौर पर सूक्ष्मजीवों को मारने में अधिक प्रभावशाली है और साबुन और पानी से बेहतर परिणाम देता है।



अस्पतालों और क्लीनिकों जैसी स्वास्थ्य देखभाल सेटिंग्स के लिए, बैक्टीरिया को मारने के लिए अल्कोहल 70% से 95% है। ईस्ट टेनेसी स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अनुसार, अमेरिकी स्टोर्स में अल्कोहल सांद्रता वाले उत्पाद 40% से कम हैं।

स्वास्थ्य देखभाल के लिए, इष्टतम कीटाणुशोधन को सभी उजागर सतहों जैसे कि नाखूनों के चारों ओर, उंगलियों के बीच, अंगूठे के पीछे और कलाई के चारों ओर ध्यान देने की आवश्यकता होती है। हाथ की शराब को कम से कम 30 सेकंड की अवधि के लिए हाथों में और निचले अग्र भाग पर अच्छी तरह से रगड़ना चाहिए।

एंटीसेप्टिक / रोगाणुरोधी साबुन और पानी से हाथ धोने की तुलना में एल्कोहल-आधारित हैंड जैल का उपयोग त्वचा को कम सोखता है, जिससे एपिडर्मिस में अधिक नमी होती है।

Drawbacks

ऐसी कुछ स्थितियाँ हैं, जिसके दौरान हाथ और पानी को साबुन से धोने के मुकाबले हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग बेहतर है, इनमें शामिल हैं: क्लोस्ट्रीडिओइड्स डिफिसाइल के जीवाणु बीजाणुओं को खत्म करना, क्रिप्टोस्पोरिडियम जैसे परजीवी और सेनिटाइज़र में अल्कोहल की एकाग्रता के आधार पर नोरोवायरस जैसे कुछ वायरस (95%) अल्कोहल को ज्यादातर वायरस को खत्म करने में सबसे प्रभावी माना जाता है)। इसके अलावा, अगर हाथ तरल पदार्थ या अन्य दिखाई देने वाले दूषित पदार्थों से दूषित होते हैं, तो शौचालय का उपयोग करने के बाद भी हाथ धोना पसंद किया जाता है और यदि अल्कोहल सैनिटाइज़र के उपयोग से प्राप्त अवशेषों से असुविधा होती है। इसके अलावा, सीडीसी राज्यों के हाथ सेनिटाइजर कीटनाशकों जैसे रसायनों को हटाने में प्रभावी नहीं हैं।

Hand Sanitizer के प्रकार

  • Automatic Hand Sanitizer
  • Surgical Hand Disinfection
  • Alcohol Free Hand Sanitizer

Hand Sanitizer का इस्तेमाल कैसे करें?

यदि आप अल्कोहोल आधारित Hand Sanitizer का उपयोग कर रहे हैं तो:
Uses Of Hand Sanitizer

  1. सबसे पहले इसे हाथों की हथेली पर लगाएं।
  2. हाथों को आपस में रगड़ें।
  3. हाथों को सूखने तक हाथों और उंगलियों की सभी सतहों पर इसे रगड़ें।

Hand Sanitizer का स्वास्थ्य पर प्रभाव

क्या आप जानते हैं कि Hand Sanitizer का ज्यादा प्रयोग आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। आइए, आपको बताते हैं बार-बार हैंड सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल करने से आपकी सेहत को क्या नुकसान पहुंच सकता है:

1.हैंड सैनिटाइजर में ट्राइक्लोसान नाम एक केमिकल होता है, जिसे हाथ की स्किन सोख लेती है। इसके ज्यादा इस्तेमाल से यह केमिकल आपकी त्वचा से हुते हुए आपके स्क्त में मिल जाता हैं। रक्त में मिलने के बाद यह आपकी मांसपेशियों के ऑर्डिनेशन को नुकसान पहुंचाता है।

2. हैंड सैनिटाइजर में विषैले तत्व और बेंजाल्कोनियम क्लोराइड होता है, जो कीटाणुओं और बैक्टीरिया को हाथों से बाहार निकाल देता है, लेकिन यह हमारी त्वचा के लिए अच्छा नहीं होता है। इससे त्वचा में जलन और खुजली जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

3. सैनिटाइजर में खुशबू के लिए फैथलेट्स नामक रसायन का इस्तेमाल किया जाता है, इसकी मात्रा जिन सैनिटाइजर में ज़्यादा होती है, वे हमारे लिए हानिकारक होते हैं। इस तरह के अत्यधिक खुशबू वाले सैनिटाइजर लीवर, किडनी, फेफड़े तथा प्रजनन तंत्र को नुकसान पहुंचाते हैं।

4. सैनिटाइजर में अल्कोहल की मात्रा होने की वजह से ये बच्चों की सेहत पर बुरा असर डाल सकते हैं, खासकर यदि बच्चे इसे नादानी में निगल लें।

5. इसके ज्यदा इस्तेमाल से त्वचा ड्राई हो जाती है।

6. कई रिसर्च के अनुसार इसका ज्यादा प्रयोग बच्चों की इम्यूनिटी को भी घटाता है।
Previous Post
Next Post

post written by:

दोस्तों स्वागत है आपका gyanesh.in के इस आर्टिकल में। मेरा नाम अरिजीत सिंह है। मैं इस ब्लॉग का Author हूँ। जो आर्टिकल आप अभी पढ़ रहे हैं वो मेरे द्वारा ही लिखा गया है। मुझे शिक्षा से संबंधित जानकारी साझा करना बहुत पसंद है।

0 Comments: